IsraelIsrael

380 मजदूर जाएंगे इजराइल ;इजरायल में इन कामगारों को आवास की सुविधा के साथ ही एक लाख रुपये से अधिक सैलरी हर महीने दी जाएगी। सहायक श्रम आयुक्त मधुबन राम के मुताबिक इजरायल सरकार ने भारत सरकार से अनुभवी एवं कुशल निर्माण श्रमिकों की मांग की है।

सुल्‍तानपुर: 380 मजदूर जाएंगे इजराइल;इजरायल में हो रहे युद्ध में बड़े पैमाने मकान और बिल्डिंगें क्षतिग्रस्त हुई हैं। इसके पुननिर्माण में हाथ बंटाने की इच्छा जताते हुए बड़ी संख्या में सुल्तानपुर के कामगार आगे आए हैं। विभिन्न श्रेणियों के सैकड़ों श्रमिकों ने श्रम विभाग में आवेदन कर इजरायल जाने की इच्छा जाहिर की है।

दस्तावेजों के सत्यापन के बाद इन आवेदकों का प्रैक्टिकल और मेडिकल टेस्ट लिया जाएगा। टेस्ट में पास होने वाले श्रमिकों को भारत सरकार एजेंसी के माध्यम से इजरायल भेजेगी। वहां कामगारों को रहने की सुविधा के साथ 1 लाख रुपये से अधिक की सैलरी हर माह दी जाएगी।

10 हजार निर्माण श्रमिक इजराइल भेजे जाने को लेकर सरकार ने वैकेंसी निकाली

उत्तर प्रदेश से लगभग 10 हजार निर्माण श्रमिक इजराइल भेजे जाने को लेकर सरकार ने वैकेंसी निकाली है। 21 वर्ष से 45 वर्ष तक की आयु व 2 से 3 साल तक के अनुभव वाले निर्माण श्रमिक इसमें भेजे जाने हैं। 2 हजार सिरेमिक टाइल, 2 हजार प्लास्टरिंग, 3 हजार फ्रेम वर्क/शटरिंग कारपेंटर एवं 3 हजार आयरन बेन्डिंग पदों पर आवेदन के लिए अंतिम तारीख 31 दिसम्बर 2023 थी।

लेकिन सरकार श्रमिकों को बेसिक अंग्रेजी की जानकारी बोलना-समझना और निर्माण की ड्राइंग पढ़ना आना चाहिए। इसके अलावा पात्र अभ्यर्थियों द्वारा आवेदन किए जाने पर संपूर्ण सूचना एनएसडीसी के माध्यम से पीआईबीए को उपलब्ध कराई जाएगी। पीआईबीए द्वारा अभ्यर्थी की समस्त सूचनाओं जैसे नाम, पता उम्र एवं संबंधित दस्तावेजों तथा पासपोर्ट की पुष्टि की जाएगी।ने आवेदन करने की तिथि को 10 जनवरी 2024 तक बढ़ा दिया है।

380 मजदूर जाएंगे इजराइल

सूचनाओं की पुष्टि के पश्चात अभ्यर्थी का प्रैक्टिकल टेस्ट, मेडिकल टेस्ट लिया जाएगा श्रम एवं सेवायोजन विभाग तथा एनएसडीसी के सहयोग से व्यावसायिक शिक्षा एवं प्राविधिक शिक्षा विभाग के संबंध में से टेस्टिंग सेंटर का निर्माण होगा। जहां प्रतिदिन 500 व्यक्तियों के प्रशिक्षण का कार्य किया जाएगा। चयनित होने पर अब्रिट्टी को फ्री डिपार्चर ट्रेनिंग भी दी जाएगी।

वहां पर इन कामगारों को आवास की सुविधा के साथ ही एक लाख रूपये से अधिक सैलरी हर महीने दी जाएगी। सहायक श्रम आयुक्त मधुबन राम के मुताबिक इजराइल सरकार ने भारत सरकार से अनुभवी एवं कुशल निर्माण श्रमिकों की मांग की है। जिसके तहत इच्छुक लोगों से आवेदन मांगे गए थे। अब तक उम्मीद से ज्यादा आवेदन आए हैं। नौ जनवरी तक भवन निर्माण की विभिन्न श्रेणियों में कुल 380 आवेदन प्राप्त हुए हैं। आवेदन की अंतिम तिथि 10 जनवरी है। लिहाजा अभी और आवेदन आने की संभावना है। अभ्यर्थियों का नाम, पता, उम्र, शैक्षिक योग्यता, पासपोर्ट आदि का ब्यौरा दर्ज कर भारत सरकार को भेजा जाएगा।

रम एवं सेवायोजन विभाग और नेशनल स्किल डेवलपमेंट कारपोरेशन इंटरनेशनल (एनएसडीसी) की ओर से 15 जनवरी को लखनऊ में अभ्यर्थियों का परीक्षण किया जाएगा। चयनित अभ्यर्थियों को प्री डिपार्चर ट्रेनिंग देने के बाद इजराइल भेजा जाएगा।

चार श्रेणियों के कामगारों से आवेदन मांगे

भवन निर्माण की चार श्रेणियों के कामगारों से आवेदन मांगे गए हैं। इनमें सिरेमिक टाइल, प्लास्टरिंग, शटरिंग कारपेंटर (फ्रेमवर्क) व आयरन बेल्डिंग शामिल हैं। पयागीपुर स्थित सहायक श्रम आयुक्त कार्यालय में अभी तक शटरिंग कारपेंटर श्रेणी में सबसे अधिक 173 अभ्यर्थियों ने आवेदन किए हैं। जबकि सिरेमिक टाइल श्रेणी में 37, प्लास्टरिंग में 104 व आयरन बेल्डिंग श्रेणी में 66 आवेदन किए गए हैं।

चयनित श्रमिकों को भारत सरकार के अधीन एजेंसी एनएसडीसी व इजराइल सरकार की एजेंसी पीआईबीए की ओर से इजराइल में निवास व रोजगार का प्रबंध किया जाएगा। न्यूनतम एक साल और अधिकतम पांच साल के अनुबंध की बाध्यता होगी। सामाजिक सुरक्षा व प्रवासी भारतीय बीमा योजना 2017 के तहत चिकित्सा एवं जीवन बीमा की सुविधा के साथ श्रमिकों को 137260 रुपये हर महीने पगार मिलेगी।

Sultanpur News: पौधे लगा बढ़ाई जा रही शहर की खूबसूरती

सुल्तानपुर। अयोध्या में 22 जनवरी को होने वाले प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम को लेकर शहर के पयागीपुर से गोलाघाट व अमहट से डीएम आवास के सामने तक सजाने व संवारने का काम जोरों पर चल रहा है। पयागीपुर में ओवरब्रिज के नीचे गुलाब, चमेली व गेंदा आदि फूलों के पौधों को करीने से लगाया जा रहा है।

प्रतिदिन पौधों की देखभाल की जा रही है। डिवाइडरों के बीच में आकर्षक पौधे लगाकर शहर की खूबसूरती को बढ़ाया जा रहा है। उनकी रंगाई-पुताई कर तथा उनके बीच लगाए गए पौधों की निराई-गोड़ाई कर साफ सुथरा बनाने में लोक निर्माण विभाग जुटा है।

डिवाइडरों के टूट-फूट भी दुरुस्त किए जा रहे हैं। रोजाना 50 मजदूर डिवाइडरों की साफ-सफाई व रंगाई-पुताई कर रहे हैं। पयागीपुर, पांचोपीरन, डीएम आवास के सामने तथा अमहट चौराहे पर रंग रोगन कर शहर को चमकाया जा रहा है। इस संबंध में लोक निर्माण विभाग की सहायक अभियंता चित्रा वर्मा ने बताया कि डिवाइडर की रंगाई-पुताई व उनकी मरम्मत पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है। राम वनगमन मार्ग को सुंदर बनाया जा रहा है।

US Inflation Data: दिसंबर में अमेरिका में महंगाई दर में आई उछाल

शेयर करने के लिए धन्यवाद